शॉर्ट सेलिंग क्या है? In Hindi

Short selling in Hindi

यदि आप स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग करते हैं तो आपको Short selling in Hindi के बारे में थोड़ा बहुत जानकारी जरूर होगी लेकिन आज हम इसके बारे में पूरी जानकारी लेंगे

What is short selling In Hindi ?

Www.hintme.in

Short selling of stock-in Hindi

Short selling stock, स्टॉक मार्केट में ट्रेड करने का वह तरीका जिसमें पहले sell करके बाद में खरीदा (buy) जाता है उसी को हम शॉर्ट सेलिंग कहते हैं

Stock market in Hindi में आए नए लोगों को इसे समझने में बहुत problem होती है सामान्य तौर पर लोग जानते हैं कि हम उस चीज को बेच पाते हैं जिसे हम पहले खरीदा हो जो हमारे पास हो, लेकिन स्टॉक मार्केट में ट्रेड करने वालों के लिए यहां सुविधा प्राप्त है कि वह पहले बेचे फिर बाद में खरीदें
इस प्रकार की trading हम उस समय करते हैं जब मार्केट में तेजी और मंदी दोनों समय-समय पर होती रहती है जैसे कि आपको पता होगा कि कोविड-19 के चलते 2020 में मार्केट काफी मंदी और तेजी चल रही थी इसलिए यहां तेजी या मंदी में दोने ही ट्रेड करके पैसा कमाने के अवसर था दरअसल मार्केट की तेजी में तो पहले शेयर खरीद कर फिर ऊपर के रेट में बेचकर पैसा कमाया जाता है लेकिन मार्केट अगर डाउनट्रेंड में हो और मार्केट गिर रहा हो तो कैसे trade किया जाए
अगर आपको लगता है कि मार्केट गिरने वाला है तब आप पहले किसी स्टॉक्स या इंडेक्स derivative को बेच सकते हैं यदि आपकी सोच के according बाजार नीचे जाता ह तो जितना नीचे जाएगा उतना ही आपका प्रॉफिट बढ़ता चला जाएगा और जब आप इसका टारगेट मिल जाए तब आप खरीद कर सौदा square off करके अपना प्रॉफिट बुक कर सकते हैं यही शॉर्ट सेलिंग करके कमाने का तरीका है और उतनी ही आसान है जितनी पहले खरीद कर बाद में बेचने की है
Stocks for short selling -का मतलब यदि हम सरल शब्दों में समझें तो इसका मतलब होता है जब शेयर बाजार या स्टॉक्स गिरेगा तभी हम शॉर्ट सेलिंग करते हैं अन्यथा नहीं करेंगे क्योंकि यहां रिस्क भी बहुत अधिक होता है

Stock market,

शॉर्ट सेलिंग कब करें?-in Hindi

Short selling stocks करने का सही समय तब होता है जब कोई stock या बाजार proper तरीके से नीचे की तरफ गिर रहा हो तब हम इंडेक्स f&o (FUTURE AND OPTION )को ऊंची कीमत पर बेच देते हैं और जैसे ही मार्केट का भाव नीचे की तरफ गिर जाता है तब हम उसे खरीद कर अपनी पोजीशन square off करके प्रॉफिटबुक कर लेते हैं

शार्ट सेल कैलकुलेट फार्मूला
Profit in Short selling=sell price-buy price

Short selling example (in Hindi )


मान लीजिए आपको लगता है कि एक्सिस बैंक के शेयर का भाव गिरने वाला है तो आप भी एक्सिस बैंक के शेयर में लाभ कमा सकते हैं इसके लिए आपको सबसे पहले एक्सिस बैंक के शेयर को हाई रेट पर बेचना होगा और जैसे ही एक्सिस बैंक के शेयर का भाव गिरे तो उसे लो रेट पर खरीदना होगा रेड का अंतर कि आपका मुनाफा होगा लेकिन आप को सील करने के बाद एक्सिस बैंक के शेयर का रेट यदि बढ़ जाता है तब भी आपको उसे खरीदना ही पड़ेगा ऐसी दशा में आपको loss बुक करके मार्केट से बाहर निकलना पड़ेगा
A. मान लीजिए आपने एक्सिस बैंक के 1000 शेयर को ₹400 के भाव से पहले ही sell किया है अब यह शेयर इंट्राडे में गिरना शुरू हो जाता है और आप उसे ₹395 तक गिरता देख कर खरीद लेते हैं प्रॉफिट बुक कर लेते हैं इस तरह आप का मुनाफा profit- (400-395=5) प्रति शेयर 5 रुपए के हिसाब से 5×1000=5000. रुपए होगा
B. अब यहां भी हो सकता है कि आपके ₹400 के भाव पर बेचने के बाद शेयर नीचे आने की जगह ऊपर की चाल पर चल पड़े और मार्केट क्लोजिंग से पहले उसका रेट आपके देखते-देखते ₹404 पहुंच जाए तब आपको उसे ₹304में खरीद कर अपना सौदा इस पर काटना करना ही पड़ेगा इस तरह प्रति शेयर rupees 4 के हिसाब से 4×1000=4000 रुपए का घाटा आपको सहना होगा

How to do short selling- in Hindi

शेयर बाजार में शॉर्ट सेलिंग दो प्रकार से की जाती है
1. इंट्राडे में किसी stock को sell करके
2. डेरिवेटिव FUTURE और OPTION में स्टॉक्स और INDEX दोनों को सेलिंग कर

A. Intraday short selling

Intraday short selling in Hindi के अंतर्गत यदि आप किसी स्टॉक्स को आज ही बेचकर और (same day) उसी दिन मार्केट बंद होने से पहले खरीदते हैं तो इस complete सौदे को हम इंटरडे selling कहते हैं
लेकिन यहां पर आपको सावधानी रखना बहुत ही आवश्यक है अगर आप stocks सेल करने के बाद उसे किसी वजह से खरीद नहीं पाते या खरीदना भूल जाते हैं( square off) करना उस सौदे को पूरा नहीं करते तो ऐसे केस में आपने जिसको स्टॉक्स बेचा हो उसको स्टॉक्स की डिलीवरी नहीं मिल पाएगी.
ऐसी दशा में स्टॉक एक्सचेंज इस सौदे में आपको शॉर्ट सेलिंग का डिफाल्टर घोषित करता है और आपके ऊपर बहुत बड़ी पेनाल्टी लगाता है इसलिए जब स्टॉक में डायरेक्ट सेलिंग करें तो इसका ध्यान रखें कि आप position को उसी दिन मार्केट बंद होने से पहलेcomplete करें यानी जितनी क्वांटिटी में बेचा था उसे उतनी ही क्वांटिटी में buy करके सौदा square off आप कर लेना चाहिए

B. Derivative ( f&o) short selling

यदि आप short selling in Hindi का अच्छा मुनाफा कमाना चाहते हैं तो सबसे अच्छा सेगमेंट डेरिवेटिव FUTURE और OPTION ही है जब आपको लगता है कि कोई STOCK OR INDEX अगले कुछ ही दिनों में नीचे जा सकता है तो आपको उस स्टॉक्स को f&o में सेल करना होगा यहां आपको अपनी इच्छा अनुसार क्वांटिटी SHARE में SELL करने की जगह कम से कम एक (LOT SIZE) सेल करना पड़ेगा जिसमें मार्जिन सुविधा भी मिलेगी f&o में SELL करने पर आपके पास इस EXPIRY डेट तक का समय होता है जोकि महीने का आखरी गुरुवार होता है आखरी गुरुवार तक आगर BUY नहीं करना चाहते तब आप की शार्ट पोजीशन को कैरी फारवर्ड कर अगले महीने के कॉन्ट्रैक्ट में जोड़ दिया जाता है आप चाहे इस अवधि के दौरान कभी भी बाई करके अपना सौदा square off कर सकते हैं यहां एक सावधानी रखें किसी स्टॉक फ्यूचर के एक LOT की कीमत पांच से सात लाख रुपए तक होती है यदि स्टॉक्स की प्राइस में थोड़ा भी चेंज ऊपर की तरफ आया तो आपको बहुत बड़ा लॉस लगेगा इस सौदे को कैरी फॉरवर्ड करने के लिए प्रतिदिन उस लॉस को भरना ही पड़ेगा

Different between intraday short selling and derivative (f&o) short selling.

अगर आप इंट्राडे कैश शॉर्ट सेलिंग करते हैं तो यहां पर आप स्टॉक सके एक शेयर भी खरीद सकते हैं लेकिन अगर आप डेरिवेटिव f&o में शॉर्ट सेलिंग करते हैं तो आपको लौट खरीदना पड़ता है इस नोट में बंच आफ फीयर होते हैं जो कि पूरा ग्रुप होता है यदि आप f&o में शार्ट सेल करते हैं तो पूरा ग्रुप आपको खरीदना पड़ेगा जिसे हम LOT SIZE बोलते हैं

Short selling call option-in Hindi

यदि आप short selling call option in Hindi, OPTION SEGMENT में TRADE करते हैं तो आप हमेशा ही CALL OPTION ही BUY करते हैं तो आप सोचते हैं कि जैसे हम कैश और फ्यूचर में SELLING TRADE करते हैं तो क्या हम ऑप्शन में भी सेलिंग कर सकते हैं क्या जी हां आप OPTION सेगमेंट में भी कॉल ऑप्शन सेल कर सकते हैं लेकिन यहां FUNDA कुछ अलग ही होता है क्योंकि शॉर्ट सेलिंग कॉल ऑप्शन में LOSS बहुत ज्यादा होने की संभावना होती है और प्रॉफिट ना के मात्रा के बराबर होता है इसलिए लोग हमेशा कॉल ऑप्शन खरीदते या पुट ऑप्शन खरीदते करते हैं
जैसा कि.
मान लेते हैं कि कोई स्टॉक जैसे टाटा मोटर्स के शेयर का प्राइस ₹100 है और इसका option segment में प्रीमियम ₹5 है हम मान लेते हैं कि इसकी लॉट साइज 1000 रुपए है तो यदि हम इसका कॉल ऑप्शन खरीदते हैं तो अगर वह प्रीमियम ₹5 से 10 जा सकता है 10 से 15 ₹20 जा सकता है लेकिन वही प्रीमियम यदि हम सेल करते हैं तो वह ₹5 से नीचे ₹2 आएगा और 1 रुपए आएगा तो यहां पर प्रॉफिट केवल ₹5 ,,अगर वह ऊपर जाता है तो loss अनलिमिटेड है
Call option buy. - unlimited profit, limited loss
Call option sell- -unlimited loss, limited profit

तो इसलिए हम ऑप्शन सेगमेंट में शॉर्ट सेलिंग नहीं करते

Short selling margin-in Hindi


यदि आप stock market में इंट्राडे Short selling in Hindi करते हैं तो यहां पर आपको आपके demat broker के अनुसार आपको अच्छी मार्जिन मिल जाती है जिससे आप Trade करके अच्छा profit कमा पाते हैं ज्यादातर demat ब्रोकर कंपनियां जैसे Angel broking,zirodha broking, share khan यह सब ब्रोकिंग कंपनियां इंट्राडे ट्रेड पर अच्छी लिमिट मार्जिन प्रोवाइड करती हैं जैसे की बात करें तो आपके इन्वेस्टमेंट के अनुसार आपको मिनिमम 10 गुना और ज्यादा से ज्यादा आपके इन्वेस्टमेंट का 50 गुना मार्जिन आपको प्रोवाइड करता है जिससे आप मार्केट में ट्रेड करके काफी अच्छा मुनाफा कमा पाते हैं
Example. मान लीजिए आपके एंजल डिमैट अकाउंट में ₹20'000 हैं तो आपको interaday Trade करना है शॉर्ट सेलिंग के लिए आपको एसबीआई बैंक का शेयर खरीदना है ₹300 से यहां आप यदि 500 से खरीदते हैं तो. 300×500=150'000. रुपए की जरूरत पड़ती है लेकिन आपके पास केवल 20000 ही रुपए है तो आप इसका शेयर नहीं खरीद पाते यहीं पर यदि आप मार्जिन लेकर Trade करते हैं और आपकी डीमेट ब्रोकर आपको 10 गुना मार्जिन देता है 20000×10=200000. होता है तो यहां आप अच्छे से ट्रेड कर पाते हैं और आप अच्छा मुनाफा भी कमा पाते हैं यही होता है मार्जिन इसी को ही हम short selling margin भी कहते हैं

Hazing in short selling-in hindi


What is hazing Market ? की मंदी के समय ट्रेडिंग करके short selling से पैसा कमाया जा सकता है साथ ही शार्ट फीलिंग को है रणनीति के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता है इसका अर्थ है कि फोर सीलिंग के जरिए हम अपने पैसे की सुरक्षा भी कर सकते हैं शेयर बाजार में स्वागतम में मार्केट अक्सर मंदी भी देखने को मिलती है इस मंदी से बचने के लिए और अपने पोर्टफोलियो की सुरक्षा के लिए शार्ट सेलिंग हेजिंग करके बचाया जा सकता हैं
मान लीजिए आपके पोर्टफोलियो एक्सिस बैंक के शेयर हैं और आप किसी अफवाह के कारण उसके शेयर के भाव गिरने लगते हैं और आपका अनुमान है कि यहां बाजार अस्थाई स्थाई है और लंबे समय तक स्टॉक्स का भाव नहीं गिरने वाला है तो ऐसे समय में हम अपने पोर्टफोलियो से एक्सिस बैंक के शेयर को बाहर करने की बजाय उसका फ्यूचर सेल कर सकते हैं अब एक्सिस बैंक के शेयर का भाव गिरने पर पोर्टफोलियो में जितना नुकसान होगा उससे अधिक लाभ शॉर्ट सेलिंग करके कमा सकते हैं क्योंकि एक्सिस बैंक का शेयर यदि आप ₹400 में 100 शेयर खरीदते हैं और एक्सिस बैंक का शेयर ₹395 आता है तो आपको यहां पर ₹500 का घाटा होता है लेकिन यहीं पर आप शेर का ₹400 से शॉर्ट सेलिंग करते हैं और मार्केट ₹395 आता है तो यहां भी आपको ₹5 का लोन मिलता है लेकिन फ्यूचर में किस बैंक का लोट साइज 12 सो रुपए है तो यहां पर आपको ₹6000 का प्रॉफिट होता है





 मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख   short selling  in Hindi क्या है  जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को Short selling in Hindi के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे sites या internet में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.
 इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी information भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच comments लिख सकते हैं. अगर आपको डिमैट अकाउंट से जुड़े कोई भी सवाल है तो कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट करें और हमें बताएं.
             यदि आपको यह post  short selling in Hindi  आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि facebook , Twitter और दुसरे Social media sites share कीजिये

टिप्पणी पोस्ट करें

11 टिप्पणियां

  1. Thanks for such post about stock market. It will be helpfull

    जवाब देंहटाएं
  2. Wahh... Maza aa gaya... Concept sheese ki tarah saaf ho gaya!

    जवाब देंहटाएं

If you have any dought let tell us