Option trading strategies in hindi

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है इसके बारे में हम लोगों ने बहुत कुछ सुना हुआ है लेकिन यह ट्रेडिंग कैसे की जाए इसका पूरा आईडिया कहां से पता चले तो चलिए आज हम इसके बारे में आपको पूरी तरह बताते हैं

ऑप्शन ट्रेडिंग क्या है?

Options trading in hindi



ऑप्शन ट्रेडिंग कॉन्ट्रैक्ट का एक रूप है जिसमें ऑप्शन की खरीददार को एक निश्चित समय ( Expiry date)  में एक निश्चित मूल्य पर अपने हिसाब से खरीद और बेंचने करने  का पूर्ण अधिकार है
साथ ही साथ हमें इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए कि ऑप्शन ट्रेडिंग में खरीददार के पास ऑप्शन को इस्तेमाल करने का केवल अधिकार होता है लेकिन वह इस अवसर को इस्तेमाल नहीं कर सकता
क्रेडिट सिक्योरिटी को खरीदने या बेचने की विकल्प का प्रयोग कर सकता है या नहीं या सिक्योरिटी के मार्केट वैल्यू पर निर्भर करता है ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट करने के लिए एक निश्चित शुल्क या प्रीमियर जाता है और यह शुल्क non-refundable  काहोती है


 
इस ऑप्शन ट्रेडिंग में पूर्व निर्धारित मूल्य को स्ट्राइक प्राइस कहा जाता है और पूर्व निर्धारित समय को स्पाइरी डेट कहा जाता है



ऑप्शन ट्रेडिंग दो भागों में बांटा गया है
१ कॉल ऑप्शन
२ पुट ऑप्शन

कॉल ऑप्शन क्या है?

कॉल ऑप्शन एक फाइनेंसियल मार्केट कॉन्ट्रैक्ट होता है जोकि buyer दो पार्टियों के बीच एक तरह का डेरिवेटिव कॉन्ट्रैक्ट होता है जिसमें कॉल ऑप्शन के खरीददार को अपने ऑप्शन का इस्तेमाल करके किसी विशेष एसिड(particular person)से को एक नियत समय(specified time) और नियत मूल्य पर खरीदने का अधिकार होता है 

कॉल ऑप्शन को खरीदते समय यह ध्यान ध्यान देना बहुत आवश्यक है कि खरीददार कॉल ऑप्शन के केवल ऐसैट्स खरीदने का अधिकार होता है लेकिन वहां उसका इस्तेमाल करने के बाद भी नहीं होता


तो आईये उदाहरण से समझते है -
            यदि आप टाटा मोटर का स्टॉक ₹273 प्रति शेयर पर ट्रेड हो रहा है और ट्रेडर ( person ) ₹275 प्रति शेयर खरीदने के लिए कॉल ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट में प्रवेश करता है तो कॉल ऑप्शन के खरीददार को ₹275 प्रति शेयर पर ही स्टॉक  खरीदने का अधिकार है यह मूल  स्ट्राइक प्राइस कहलाती है

ट्रेडर इस कॉन्ट्रैक्ट की स्पायरी डेट जो 30 अप्रैल को मौजूद स्टॉक के बावजूद स्ट्राइक प्राइस पर खरीद सकता है इसलिए इस मामले में भले ही शेयर की कीमत ₹280 हो जाए लेकिन ट्रेडर तब भी ₹270 पर शेयर खरीद सकता है जब तक की कॉल ऑप्शन समाप्त नहीं हुआ होता


पुट ऑप्शन क्या है?


पुट ऑप्शन भी एक  मार्केट financial कॉन्ट्रैक्ट होता है लेकिन यहां पर मालिक के पास एक निश्चित समय के भीतर एक पूर्व निर्धारित मूल्य पर एक स्टॉक्स बेचने का अधिकार नहीं होता
सिक्योरिटी कीमत स्पाइसजेट से पहले स्ट्राइक मूल्य से नीचे आती है तो ट्रेड अपने करंट मार्केट वैल्यू की जगह अपनी स्ट्राइक वैल्यू पर इन सिक्योरिटी को बेचकर अपने होने वाले नुकसान कम करके उससे बच  सकता है लेकिन अगर सिक्योरिटी कीमत समान रहती है या बढ़ जाती है तो वह ऑप्शन का प्रयोग न करके आगे होने वाली प्रॉफिट का विकल्प चुन सकता है


उदाहरण के लिए
 
 यदि हम आईबीसी के शेयर ₹100 प्रति शेयर पर ट्रेड कर रहे हैं और ट्रेडर ₹95 प्रति शेयर अपने स्टाक  को ऑप्शन में खरीदना है उसे ₹5 का प्रति शेयर प्रीमियम भी भरना होता है

लेकिन जब प्रॉफिट रिपोर्ट जारी होता है तो जल्द ही शेयरों का मूल्य ₹90 प्रति शेयर चला जाता है तो भी ऑप्शन के खरीदने को अपने आईबीसी के शेयर ₹93 प्रति शेयर बेचने का अधिकार है इस प्रकार उसे ₹8 प्रति शेयर का प्रॉफिट मिलता है जिसमें अगर ₹5 प्रति प्रीमियम भी घट जाए तब भी उसे ₹3 का प्रॉफिट मुनाफे के साथ मिलेगा


ऑप्शन ट्रेडिंग के रिस्क

ट्रेडिंग में कुछ रिस्क इस प्रकार हैं जोकि इससे बचना बहुत ही आवश्यक होता है नहीं तो इस दशा में ट्रेडर को घाटा लग सकता है
अधिकांश ट्रेडर यह नहीं समझ पाते की ऑप्शन ट्रेडिंग में कैसे काम किया जाए सबसे ज्यादा लोग यहीं पर होता है और प्रॉफिट भी अच्छा यहां पर मिलता है मैं आपको बता दूं कि यहां पर कोई रॉकेट साइंस नहीं होता लेकिन आपको सभी प्रकार के परिवर्तन पर विचार करना आवश्यक है कि स्टॉक से के साथ भी कॉल बाई ऑप्शन करना चाहिए या पुट ऑप्शन बाय करना चाहिए
ट्रेडर को इस कारण लॉस हो जाता है कि जिस समय शेयर्स को बेचने काटा समय होता है वाह उस टाइम उसे नहीं भेज पाते इसलिए उन्हें काफी घाटा सहना पड़ता है 


ऑप्शन ट्रेडिंग के लाभ

ऑप्शन ट्रेडिंग में सबसे बड़ा यह लाभ होता है कि यहां पर इन्वेस्टर कम पैसे लगाकर ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट मुनाफा कमा सकता है जैसा कि ऑप्शन सेगमेंट में कम से कम स्ट्राइक प्राइस में हम शेयर से को खरीद पाते हैं और उसे बेचने पर हमें ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट मिलता है

कोई भी व्यक्ति यदि कुछ अच्छा प्रॉफिट कमा रहा है तो जाहिर सी ही बात है कि उसके अंदर कोई ना कोई एक इनसाइड सीक्रेट इसकी जरूर होती है जिससे वह अच्छा प्रॉफिट कमा रहा है लेकिन यहां कोई रॉकेट साइंस वाली बात नहीं होती


ऑप्शन ट्रेडिंग के फायदे


आपने यह शब्द बहुत ही ज्यादा सुना होगा कि   "ज्यादा प्रॉफिट के लिए ज्यादा काम करना पड़ता है"


 ऐसे ही शेयर बाजार में एक  world  बोला जाता है कि -
" उच्च लाभ के लिए उच्च जोखिम की आवश्यकता होती है"


बहुत से इन्वेस्टर आपको यह भी बताएंगे की ऑप्शन ट्रेडिंग बहुत ही जोखिम भरा हुआ है लेकिन वह आपको यह नहीं बताएंगे कि यह अत्यधिक लाभ होता है

यदि आप ऑप्शन सेगमेंट में इन्वेस्टमेंट करना चाहते हैं तो आपको बहुत सारी रणनीतियों का पालन करना पड़ेगा
प्रॉफिट की सीमा आपके जोखिम की क्षमता पर निर्भर करती है यहां ऑप्शन ट्रेडिंग से होने वाले कुछ बड़े लाभों के बारे में चर्चा की गई है आइए समझते हैं

ऑप्शन ट्रेडिंग स्ट्रैटेजिस


यहां पर ऑप्शन ट्रेडिंग में निवेश करने की बहुत सारी रणनीतियां हैं जिसके बारे में हम कुछ बताने जा रहे हैं आपको

Covered call


 यह रणनीति विकल्प व्यापारियों के बीच लोकप्रिय है क्योंकि यह किसी संपत्ति पर लंबे समय तक रहने के जोखिम को कम करते हुए आए उत्पन्न करता है जिसमें एक शेर खरीदना और एक ही संपत्ति पर एक कॉल विकल्प लिखना या बैठना शामिल है

Married put 

इसे राजनीति के साथ निवेशक एक संपत्ति खरीदता है और साथी सामान शेरों के लिए ऑप्शन खरीदना है इस पुट ऑप्शन के धारक स्टॉक्स को हंड्रेड मूल्य के प्रत्येक अनुबंध के साथ निर्धारित मूल प्रवेश सकते हैं

Long strangle


इस ऑप्शन के अंतर्गत लंबी गला घुटने की रणनीति में एक व्यापारी को एक आउट ऑफ द मनी कॉल विकल्प और एक आउट ऑफ द मनी पुट विकल्प एक साथ एक ही अंतरहीत सुरक्षा पर और एक ही समाप्त तिथि के साथ खरीदना होता है


Long call Butterfly spread


इसमें दो अलग-अलग अनुबंधों का संयोजन शामिल है इस प्रकार की रणनीति में एक बीयर प्रसार रणनीति और एक बुलिस प्रसार समिति के संयोजक निवेशक शामिल है


ऑप्शन ट्रेडिंग इंट्राडे


इंट्राडे ट्रेडिंग के अंतर्गत यदि आप ऑप्शन ट्रेडिंग का प्रदर्शन अपने खुद के दबाव और विश्लेषण विशेषता की आवश्यकता को दिखाता है और निश्चित रूप से सिंगल ट्रेडिंग सेशन में ट्रेडिंग के इस रूप को अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं

आपको मार्केट की स्थिति ट्रेंड और आपकी अपेक्षाओं के आधार पर कई ऑप्शन ट्रेडिंग रणनीतियों की आवश्यकता होती है जिससे कि कुछ हम ऊपर आपको बता चुके हैं यदि आप स्थिरता और मात्रा में उच्च नूर वाले शेयर की तलाश कर रहे हैं ताकि आपको इससे बाहर एक बड़ा लाभ कमाने का अवसर मिले

इसके अलावा यह कई अवसरों की तलाश करने के लिए है क्योंकि आपका प्रॉफिट टेकअवे प्रति ट्रेड के आधार पर सीमित होगा और इस प्रकार कई ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट के साथ आपको लाभ कमाने और नुकसान को कम करने के लिए बड़ी संख्या में परिस्थितियां मिलते हैं

ऑप्शन ट्रेडिंग उदाहरण


हमने ऊपर आपको बहुत ही अच्छे तरीके से ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में समझाने की कोशिश की है लेकिन आइए हम कुछ उदाहरण को भी लेकर विस्तार से इसे समझते हैं की या विभिन्न परिस्थितियों में कैसा काम करता है

यह आपको विभिन्न मार्केट परिवर्तनों के साथ अपने ऑप्शन ट्रेडिंग निवेश से संबंधित चीजों को जानने में मदद करेगा

मान लेते हैं कि 1 नवंबर को टाटा मोटर्स का शेयर ₹150 पर ट्रेडिंग कर रहा है प्रीमियम जनवरी को ₹180 के कॉल के लिए ₹10 पर रखा गया है 

यह कुछ चीजें इस प्रकार लागू होती है जैसे

१ एक्सपायरी डेट जनवरी है
२  स्ट्राइक प्राइस ₹180 है

यदि आप एक सरल भाषा में इसकी गणना करते हैं तो आप कॉन्ट्रैक्ट में आने के लिए 10 * 100 यानी १००० रुपए का भुगतान करेंगे इसका कारण यह है कि एक कॉन्ट्रैक्ट में बहुत सारे शेयर है

इस प्रकार आप शुरू में ही १००० रुपए नीचे हैं

इसके अलावा आप चाहते हैं कि स्टॉक की कीमत जितना अधिक हो सके उतनी अधिक हो क्योंकि आप 150 प्लस 10 की कीमत पर हैं या नहीं 160 रुपए से आगे बढ़ने के लिए हैं

अब यहां तीन स्थितियां लागू होती हैं जैसा कि

१ स्टॉप ₹120 की कीमत के लिए बैरल से नीचे चला जाता है।    इसी मामलेआप ऑप्श. , ऐसे मामले में आप ऑप्शन ट्रेडिंग का उपयोग नहीं करेंगे और याा आपकेेआपके द्वारा भुगतान किया गया प्रीमियम केे नुकसान और हानि की ट्रेडिंग होगी

२  स्टॉक एक ही कीमत पर रहता है।  
यहां तक कि इस मामले में या आपके लिए कोई मतलब नहीं है क्योंकि आपके पास एक प्रीमियम राशि का भुगतान किया गया है और ब्रेव केवल पॉइंट स्टैंडर्ड ₹160 पर है

३ स्टॉक ₹190 चला जाता है ठीक है या वही मामला था जिसकी आपको उम्मीद कर रहे थे और यही कारण है कि आप कांटेक्ट में गए थे यहां एक सरल गणना के साथ आप देख सकते हैं कि आपके कॉन्ट्रैक्ट के लिए स्टॉक्स की कीमत पर ओवरऑल ग्रोथ (१९०- १५०) *१०० यानी कि ४००० है

यदि आप परियों राशि में ₹1000 की कटौती करते हैं तो आपका ओरल प्रॉफिट (4000_1000) = 3000 hi
यह आपके शुरुआती निवेश ₹1000 पर 300% का है

यही कारण है कि ऑप्शन ट्रेडिंग में बहुत ही ज्यादा रोमांचक रूप देखने को मिलता है और इसी वजह से लोग यहां पर बहुत ज्यादा से ज्यादा ट्रेडिंग करते हैं







मुझे उम्मीद है कि आप को यह मेरी लेख option trading kya hai है जरूर पसंद आई होगी मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है कि readers को ट्रेडिंग के बारे में पूरी जानकारी प्रदान की जाए जिससे उन्हें किसी दूसरे साइट या इंटरनेट या आर्टिकल को ढूंढने की जरूरत ना पड़े


जिससे उनकी समय की भी बचत होगी और एक ही जगह उन्हें पूरी इंफॉर्मेशन मिल जाएगी यदि आपके मन में इस आर्टिकल को लेकर कोई भी डाउट या आप इस आर्टिकल में कुछ सुधार चाहते हैं तो नीचे लिखे गए कमेंट में जरूर आप बताएं




Bheem Singh

I'm Bheem Singh Ceo of Www.Hintme.in. I'm a professional blogger and writter, like to share all knowledge about stock market and business ideas

एक टिप्पणी भेजें

If you have any dought let tell us

और नया पुराने